Central Pain Syndrome, Centralised Pain Syndrome, Chronic Illness, chronic pain conditions, chronic pain india

COVID-19 Guidelines for Vulnerable Groups & Caregivers- In Hindi

कोविड-19: संवेदनशील समूहों और देखभाल करने वालों के लिए दिशानिर्देश


डॉ. अनुभा महाजन (जनरल डेंटिस्ट एंड फाउंडर, क्रॉनिक पेन इंडिया), डॉ. पीयूष गोयल (सीनियर कंसल्टेंट पल्मोनोलॉजी एंड क्रिटिकल केयर, कोलंबिया एशिया अस्पताल, गुड़गांव), डॉ. पारुल प्रिन्जा (आंतरिक चिकित्सा और उपशामक/सहायक देखभाल विशेषज्ञ, कोलंबिया एशिया अस्पताल, गुड़गांव), डॉ. खान अमीर मरूफ, (एसोसिएट प्रोफेसर, सामुदायिक चिकित्सा, यूसीएमएस और जीटीबी अस्पताल, दिलशाद गार्डन, नई दिल्ली), डॉ. अभिलाषा कपूर (जूनियर रेजिडेंट, कम्युनिटी मेडिसिन, यूसीएमएस और जीटीबी अस्पताल, दिलशाद गार्डन, नई दिल्ली), डॉ. संतोष कुमार सुंदरम (जूनियर रेजिडेंट, कम्युनिटी मेडिसिन, यूसीएमएस और जीटीबी अस्पताल, दिलशाद गार्डन, नई दिल्ली) इत्यादि की एक पहल।

March, 2020

प्रारूपण, संपादन, त्रुटि जांच के लिए सहयोग: https://projectsetu.in/


उद्देश्यः

विकलांग, भयंकर बीमारियों, स्व-प्रतिरक्षित बीमारियों और दुर्लभ बीमारियों से ग्रसित लोगों के बीच कोविड-19 की रोकथाम के लिए सामुदायिक तैयारी।

उनके परिवार के सदस्यों और देखभाल करने वाले लोगों के बीच कोविड-19 के संक्रमण के प्रसार को नियंत्रित करने के लिए निवारक उपाय।

विकलांग, भयंकर बीमारियों, स्व-प्रतिरक्षित बीमारियों और दुर्लभ बीमारियों से ग्रसित लोगों के बीच कोविड-19 की रोक-थाम के लिए सामुदायिक तैयारीः

  1. सार्वजनिक स्थलों एवं घर पर सभी प्रकार के सामाजिक एकत्रीकरण से दूर रहना चाहिए।
  2. घर से काम करने के विकल्पों को अपनाना चाहिए।    
  3. सुलभ स्वरूपों में डिजिटल प्लेटफॉर्म के माध्यम से सावधानियों, रोकथाम और उपचार पर जागरूकता पैदा की जानी चाहिए (सरकारी दिशानिर्देशों के अनुसार)।
  4. लैब में जांच करवाने के लिए उपलब्ध नजदीकी स्वास्थ्य सुविधाओं के बारे में जागरूकता।
  5. चिकित्सक का परामर्श लेने के बाद चिकित्सा संबंधी छोटी-छोटी बातों के लिए अनावश्यक रूप से डाक्टर के पास जाने से बचा जाना चाहिए और यथासंभव फोन और/ई-मेल के माध्यम से संपर्क किया जाना चाहिए।
  6. फिजियोथेरेपिस्ट और ऑक्युपेशनल थेरेपिस्ट, एप्रन, मास्क, दस्ताने, समुचित हाथ धोने जैसे स्व-सुरक्षात्मक उचित उपकरणों के साथ होम विजिट कर सकते हैं। खांसी, बुखार, जुकाम की सूचना तुरंत नजदीकी स्वास्थ्य सेवा प्रदाता को देनी चाहिए।
  7. नियमित दवाओं को जारी रखा जाना चाहिए और नोवल कोरोना संक्रमण के लक्षण वाले लोगों को अलग-थलग न होने पर घर में नेबुलाइजेशन और भाप लेने से बचना चाहिए।
  8. हल्के लक्षणों के मामले में, घर पर खुद को अलग-थलग करें और नज़दीक के स्वास्थ्य सेवा प्रदाता को सूचित करें।
  9. आवश्यक दवाओं और अन्य सभी आवश्यक वस्तुओं का संग्रह करें जिनकी आपको आवश्यकता हो सकती है।
  10. मांसपेशियों की थकान या पुरानी थकान को कोविड-19 के लक्षणों के रूप में न देखें, जब तक व्यक्ति को बुखार, खांसी, सांस फूलना, दस्त आदि न हों।
  11. आपातकालीन स्थिति में कोई कदम उठाने से पहले परिवार के डॉक्टरों से संपर्क करें और तदानुसार प्रारंभिक उपाय किए जाने चाहिए।
  12. स्व-प्रतिरक्षित रोग से युक्त व्यक्ति के आसपास रहने वाले लोगों को साबुन और पानी या मद्यसार (एल्कोहल) आधारित सैनिटाइजर के साथ लगातार हाथ धोना चाहिए और आसपास की सफाई सोडियम हाइपोक्लोराइट जैसे कीटाणुनाशकों के साथ करने की आवश्यकता होती है।
  13. अप्रत्याशित आपातकाल के मामले में, डॉक्टर से संपर्क करें और आगे सलाह के लिए पूछें। अगर डॉक्टर को लगता है कि होम विजिट की जरूरत है, तो इस पर विचार करें। जहां तक संभव हो अस्पतालों में जाने से बचने की कोशिश करें।
  14. यदि आप पहियेदार कुर्सी (व्हीलचेयर) उपयोगकर्ता हैं, तो अपनी पहियेदार कुर्सी को रोजाना साफ करें, विशेष रूप से पहियेदार कुर्सी के रिम और पहिए को साफ करें। चलने-फिरने के बाद बेंत और बैसाखी को भी विशेष रूप से साफ किया जाना चाहिए।
  15. किसी भी तरह के पकड़ने वाले जंगले (रेल)को साफ करने की आवश्यकता होती है।
  16. विशेष रूप से महामारी के समय सामाजिक दूरी निराशाजनक और उबाऊ हो सकती है, जिससे हम अच्छी तरह से परिचित हैं। ऐसी बहुत-सी आसान चीजें हैं जिन्हें आप खुद की मदद करने के लिए अपना सकते हैं:
    • उन कामों को करने में समय व्यतीत करें जिन्हें आपको घर पर करने में आनंद आता है,, जिसमें पुस्तक पढ़ना, घर के भीतर होनेवाली गतिविधियाँ, चलचित्र या दूरदर्शन प्रस्तुति देखना, पॉडकास्ट सुनना, रेखांकन या चित्रकारी आदि शामिल हो सकते हैं।
    • स्वस्थ भोजन – एक संतुलित आहार लें और पर्याप्त पानी पीएं।  
    • कुछ व्यायाम आजमाएं जो आप घर पर कर सकते हैं।
    • ध्यान और गहरी साँस लेने का अभ्यास करें। 
    • आरामदायक और मन को शांत करने वाले संगीत सुनें।          
    • आनंदपूर्ण और राहत प्रदान करने वाली गतिविधियां करें।        
  17. प्रौद्योगिकी का उपयोग करें: दूरसंचार, वीडियो चैट या विभिन्न ऑनलाइन माध्यमों से अपने दोस्तों और परिवार के साथ संपर्क में रहें।

अपने परिवार के सदस्यों और सेवा देखभाल करने वाले लोगों के बीच कोविड-19 संक्रमण के प्रसार को नियंत्रित करने के लिए निवारक उपाय:

परिवार के सदस्यों और देखभाल करने वालों के लिए व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरणों (जैसे, दस्ताने, सर्जिकल या धुलनेवाले मास्क, एप्रन के रूप में घर में उपलब्ध संक्रमण रहित कपड़े का प्रावधान।

स्वस्थ लोगों को मास्क केवल तभी पहनने की आवश्यकता होती है जब वेः

  1. संदिग्ध रोगियों की देखभाल करते हैं
  2. अगर आपको खांसी/जुकाम जैसे लक्षण हों। नोटः यह तभी प्रभावी होता है जब आप इसके साथ-साथ लगातार हाथ धोते रहते हैं। प्रभावित व्यक्ति की देखभाल करने से पहले और बाद में कम से कम 20-30 सेकंड तक साबुन और पानी {(साबुन/पानी या मद्यसार  (एल्कोहल) पर आधारित परिमार्जक (हैंड रब)} के साथ हाथ धोना।
  3. हरेक व्यक्ति के बीच में कम से कम 1 मीटर सामाजिक दूरी रखी जानी चाहिए।   
  4. कम से कम प्रत्यक्ष शारीरिक संपर्क जैसे हाथ हिलाना, आंखों, नाक और मुंह को छूना।      
  5. मास्क पहनने से पहले हाथों को साफ करना। यदि मास्क को 6 घंटे से अधिक समय तक उपयोग किया जाता है/ अगर यह नम/गीला है, तो इसे बदल देना चाहिए।          
  6. केवल पट्टी/इलास्टिक को ही छुएं और तुरंत एक बंद कूडेदान में फेंक दें। फिर से हाथ धोएं।           
  7. कोहनी/टिशू पेपर पर ही छींकें। इसे एक ढक्कनदार डिब्बे में डालें।      
  8. किसी भी परिस्थिति में कपड़े से बने मास्क की सिफारिश नहीं की जाती है।        
  9. समुदाय के लिए खांसने के बारे में शिष्टाचार और संक्रमित सामग्री जैसे टिशू पेपर, एकल उपयोग (डिस्पोजेबल) मास्क आदि के निपटान के बारे में स्वास्थ्य शिक्षा।
  10. देखभाल करने वाले लोगों और परिचारकों को भीड़-भाड़ वाले स्थानों पर जाने से बचना चाहिए।
  11. बुजुर्गों के साथ-साथ मधुमेह (डायबिटीज मेलिटस), उच्च रक्तचाप और अन्य पुरानी बीमारियों और इम्युनोकॉप्रोमाइज्ड अवस्था जैसे रोगों से प्रभावित/संदिग्ध व्यक्तियों के संपर्क में आने पर अतिरिक्त सावधानी बरतनी पड़ती है।         
  12. अपने परिवार के प्रभावित/संदिग्ध सदस्य पड़ोसी को सहायता प्रदान करें क्योंकि अलगाव के कारण व्यक्ति को मानसिक तनाव हो सकता है।


घर पर संगरोध (क्वारंटाइन) के लिए

  1. घर पर संगरोध (क्वारंटाइन) के दौरान, यदि संभव हो, तो संलग्न शौचालय के साथ प्रभावित/संदिग्ध व्यक्तियों को अलग-अलग कमरे दिए जाने चाहिए, अन्यथा सामाजिक दूरी को अपनाया जाना चाहिए।
  2. एक अच्छे हवादार कमरे में रहें, जिसमें शौचालय अलग  हो।   
  3. अगर देखभाल करने वाले को एक ही कमरे में रहना हो, तो 1 मीटर दूरी बनाकर रखें।      
  4. संगरोध व्यक्ति की देखभाल के लिए परिवार का केवल एक सदस्य हो।  
  5. चादर/लिनेन आदि को झाड़ने से बचें।         
  6. मास्क/टिश्यू को प्रवृत्त करने के लिएः एक बंद डिब्बे में टिश्यू को डालें और उस पर साधारण ब्लीच (5 प्रतिशत) या सोडियम हाइपोक्लोराइड सॉल्यूशन/ घोल (1 प्रतिशत) डालें और बाद में उसे जलाएं (आसान विधि) या गहरा दफन करें। सोडियम हाइपोक्लोराइट सॉल्यूशन/घोल बाथरूम क्लीनर में पाया जा सकता है।       
  7. जो अकेले रह रहे हैं और स्वयं-दूरी में रह रहे हैं, वे घर में घूम सकते हैं।  
  8. प्रभावित/संदिग्ध व्यक्तियों को पक्षपात और उपेक्षा से बचाया जाना चाहिए और उन्हें आश्वस्त कराना चाहिए कि कोविड-19 का उचित प्रबंधन के साथ इलाज किया जा सकता है।


यदि घर के किसी सदस्य में फ्लू जैसे लक्षण हैं या संभावित जोखिम के कारण उसे अलग रखा जा रहा है, तो:

  1. घबराएं नहीं।   
  2. अपने डाक्टर से फोन पर बात करें और परामर्श का समय निर्धारित करें।  
  3. पानी की पूर्ति के लिए बहुत सारे तरल पदार्थ पीएं जैसा कि अन्य सामान्य-वायरल बीमारियों में किया जाता है।        
  4. सलाह के अनुसार दवा लें।       
  5. नियमित अंतराल पर उचित भोजन लें। उपवास से बचें।   
  6. एक अच्छे हवादार कमरे तक ही स्वयं को सीमित रखें।
  7. यदि आपको सांस लेने में कठिनाई हो रही हो, मुंह से अन्न-जल ग्रहण करने में कठिनाई हो रही हो या हर दो घंटे में पेशाब नहीं आ रही हो या पेशाब करने में परेशानी हो रही हो तभी अस्पताल जाएं।

परिवेष्टक स्वच्छता

  1. प्रतिशत सोडियम हाइपोक्लोराइट सॉल्यूशन/ घोल के साथ संगरोधित व्यक्ति के कमरे/ मेज के ऊपरी हिस्सा/ बेड फ्रेम/ फर्श की सतह की सफाई करें।           
  2. आम डिटरजेंट में कपड़े अलग धोएं।              
  3. फिनाइल कीटाणुनाशक से शौचालय की सीट की सतह को रोजाना साफ करें।   
  4. धुलाई योग्य वाले मास्क और एप्रन को सोडियम हाइपोक्लोराइट से धोएं व शुद्ध करें और इसे धूप में सुखाएं।

उच्चजोखिम वाले लोगों के लिए सलाह

  1. एक अच्छे-खुले खिड़कियों/दरवाजों वाले घर में अंदर रहें।         
  2. देखभाल करने वालों को रोगी की देखभाल करने से पहले मास्क पहनना चाहिए और अपने हाथों को साफ करना चाहिए।
  3. घर के किसी अन्य सदस्य के संक्रमित होने पर 1 मीटर की दूरी बनाकर रखें।        
  4. अगर सह-रुग्णता वाले व्यक्ति में बीमारी के लक्षण विकसित हो रहे हों, तो मास्क पहने और हाथ में सैनिटाइजर लगाने के बाद ही डॉक्टर से मिलने जाएं।

घरेलू सामान लाने के संबंध में कुछ सलाहः

  1. पोटली (पैकेट)/खराब न होने वाले सामान को प्रवेश द्वार के निकट 24 घंटे तक रहने दें। अगले दिन, पोटली (पैकेट) खोलें, वस्तु बाहर निकालें, हाथों को साफ करें – घर के अंदर वस्तु ले जाएं। पैकिंग का निपटान तुरंत कर दें।    
  2. जल्दी खराब होने वाले सामानः         
    दूध के पैकेट – साबुन और पानी से साफ करें।           
    सब्जियां – पानी से अच्छी तरह से धोएं।           
  3. घर के बाहर प्रयोग के लिए एक निश्चित जोड़ी जूते पहनें और उन्हें घर में प्रवेश करने से पहले दरवाजे पर उतार दें।       
  4. इसी तरह, बाहर पहने जाने वाले कपड़े भी उतारें और उन्हें टोकरी (हैम्पर) में डाल दें। अपने-आप को अच्छी तरह से साफ करने के बाद, दूसरी जोड़ी कपड़े पहनें।          
  5. कपड़े की टोकरी को भी रोजाना साफ करें।

महत्वपूर्ण लिंकः

सरकारी दिशा-निर्देश:  https://www.mohfw.gov.in/

मूलभूत तथ्य: https://www.mohfw.gov.in/pdf/FAQ.pdf

सरकारी हेल्पलाइन नंबर: https://www.mohfw.gov.in/coronvavirushelplinenumber.pdf

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) द्वारा मिथक स्पष्टीकरण: https://www.who.int/emergencies/diseases/novel-coronavirus-2019/advice-for-public/myth-busters

Reference link to english version: https://chronicpainindia.com/2020/03/24/covid-19-guidelines-for-vulnerable-groups-caregivers/

Leave a Reply